तंत्र सूत्र—विधि -51 (ओशो)

काम संबंधि चौथा सूत्र– ‘’बहुत समय बाद किसी मित्र से मिलने पर जो हर्ष होता है, उस हर्ष में लीन होओ।‘’ उस हर्ष में प्रवेश करो और उसके साथ एक हो जाओ। किसी भी हर्ष से काम चलेगा। यह एक उदाहरण है। ‘’बहुत समय बाद किसी मित्र से मिलने पर जो हर्ष होता है।‘’ तुम्‍हें … Read more तंत्र सूत्र—विधि -51 (ओशो)

x