तंत्र सूत्र—विधि -72 (ओशो)

प्रकाश-संबंधी तीसरी विधि— ‘’भाव करो कि ब्रह्मांड एक पारदर्शी शाश्‍वत उपस्‍थिति है।‘’ अगर तुमने एल. एस. डी. या उसी तरह के मादक द्रव्‍य का सेवल किया हो, तो तुम्‍हें पता होगा कि कैसे तुम्‍हारे चारों और का जगत प्रकाश ओर रंगों के जगत में बदल जाता है। जो कि बहुत पारदर्शी और जीवंत मालूम पड़ता … Read more तंत्र सूत्र—विधि -72 (ओशो)

x