तंत्र सूत्र—विधि -79 (ओशो)

अग्‍नि संबंधि पहली विधि: ‘भाव करो कि एक आग तुम्‍हारे पाँव के अंगूठे से शुरू होकर पूरे शरीर में ऊपर उठ रही है। और अंतत: शरीर जलकर राख हो जाता है। लेकिन तुम नहीं।’ यह बहुत सरल विधि है और बहुत अद्भुत है, प्रयोग करने में भी सरल है। लेकिन पहले कुछ बुनियादी जरूरतें पूरी … Read more तंत्र सूत्र—विधि -79 (ओशो)