संभोग से समाधि की ओर—40 (ओशो)

संभोग से समाधि की और–ओशो (बाहरवां प्रवचन) युवा चित्त का जन्‍म—बाहरवां प्रवचन मेरे प्रिय आत्मन सोरवान विश्वविद्यालय की दीवालों पर जगह—जगह एक नया ही वाक्य लिखा हुआ दिखायी पड़ता है। जगह—जगह दीवालों पर, द्वारों पर लिखा है : ‘ ‘प्रोफेसर्स, यू आर ओल्ड’ ‘ — अध्यापकगण, आप बूढ़े हो गये हैं! सोरवान विश्वविद्यालय की दीवालों … Read more संभोग से समाधि की ओर—40 (ओशो)