तंत्र-सूत्र—विधि-46 (ओशो)

ध्‍वनि-संबंधी दसवीं विधि: ‘’कानों को दबाकर और गुदा को सिकोड़कर बंद करो, और ध्‍वनि में प्रवेश करो।‘’ हम अपने शरीर से भी परिचित नहीं है। हम नहीं जानते कि शरीर कैसे काम करता है और उकसा ताओ क्‍या है। ढंग क्‍या है। मार्ग क्‍या है। लेकिन अगर तुम निरीक्षण करो तो आसानी से उसे जान … Read more तंत्र-सूत्र—विधि-46 (ओशो)

x