संभोग से समाधि की ओर—28 (ओशो)

प्रेम ओर विवाह– प्रेम जो है, वह व्‍यक्‍तित्‍व की तृप्‍ति का चरम बिंदु है। और जब प्रेम नहीं मिलता है तो व्‍यक्‍तित्‍व हमेशा मांग करता है कि मुझे पूर्ति चाहिए। व्‍यक्‍तित्‍व हमेशा तड़पता हुआ अतृप्‍त हमेशा अधूरा बेचैन रहता है। यह तड़पता हुआ व्‍यक्‍तित्‍व समाज में अनाचार पैदा करता है। क्‍योंकि तड़पता हुआ व्‍यक्‍तित्‍व प्रेम … Read more संभोग से समाधि की ओर—28 (ओशो)

x